कलाअर्पण द्वारा हुआ रंगोत्सव कार्यक्रम

उरई, (जालौन) 1 अप्रैल। कलार्पण उरई जालौन द्वारा रंगोत्सव कार्यक्रम का जो आयोजन किया गया है वह हमारी साँस्कृतिक विरासत को संरक्षित रखने का अनुपम प्रयोग है। ऐसे कार्यक्रमों से समाज में औपनिवेशिकता का जो प्रभाव है वह दूर होगा और समाज में समरसता स्थापित होगी। ये बात अखिल भारतीय साहित्य परिषद के प्रदेश महामन्त्री इ०. महेश पाण्डेय बजरंग ने मुख्य अतिथि के रूप में भगवान श्रीकृष्ण एवं राधा की आरती उतारकर कार्यक्रम का शुभारम्भ करने के पश्चात कही।

लोक गायिका गरिमा पाठक एवं संस्था के अध्यक्ष राम शंगर गौर द्वारा रंग बरसे भीगे चुनर बाली गीत प्रस्तुत कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया। रामजी पाठक एडवोकेट द्वारा पायोजी मैंने राम रतन धन पायो मीरा का भजन प्रस्तुत किया कार्यक्रम में सर्व प्रथम’ भगवान श्री राम के रूप में दीपांशी द्वारा अयोध्या में राम खेलें होरी, ब्रज में श्याम खेलें होली पर सुन्दर नृत्य प्रस्तुत किया गया। देवांशी द्वारा खड़ी खड़ी क्यों हालै गोरा, चाल कसूती चालै गौरा पर नृत्य प्रस्तुत किया गया। नेहा एवं मुस्कान द्वारा मेरौ खो गयो

पहुंचे। इन्होने परिजनों के सहयोग प्र से शव को नीचे उतारा। बताया जाता है कि परिजनों की सहमति जीआरपी ने शव को घरवालों के सुपुर्द कर दिया।

बाजू बन्द श्यात तेरी होरी में राधा कृष्ण के रूप में ब्रज की होरी प्रस्तुत की गयी। नन्हें श्री कृष्ण एवं राधा का वेश धारण कर माही एवं आयी ने गजब कर गयी ब्रज की राधा तथा होली के बहाने मत छेड़ कान्हा तू गीत पर सुन्दर नृत्य प्रस्तुत कर जम कर फूलों की होली खेली। शंकर पार्वती के रूप में दीपांशी एवं दीवांशी ने सुन्दर प्रस्तुति दी। कार्यक्रम के अन्त में भगवान शंकर द्वारा शमशान में भष्म होली की सुन्दर प्रस्तुति खेलें मसाने में होरी दिगम्बर खेलें मसाने में होली की अद्भुत एव विशेष रही। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रदेश अध्यक्ष दिगम्बर नारायण तिवारी, संचालन जिला मन्त्री बृम्हप्रकाश अवस्थी ने आभार व्यक्त दीपशिखा सोनी कार्यक्रम संयोजक द्वारा किया गया। कार्यक्रम में मुख्य रूप से अनीता तिवारी प्रान्तीय मन्त्री, रामप्रकाश चौरसिया, आर पी श्रीवास्तव, रमेश मिश्रा, महेश प्रजापति, डा० कन्हैया दुवे, अरविन्द स्वर्णकार, रवीन्द्र आर्चाय, अजय आर्चाय, सन्तोष दीक्षित, प्रशान्त द्विवेदी, ओमलता, मंजू यादव, उमा देवी, प्रगति मिश्रा एवं देवीसिंह ठेकेदार के परिजन सहित सुशील नगर के लगभग दो सैकड़ा लोगों ने कार्यक्रम का आनन्द लिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *